Home योगा Yoga Benefits In Hindi | योगा के फायदे, योगा के प्रकार-लाभ

Yoga Benefits In Hindi | योगा के फायदे, योगा के प्रकार-लाभ

Yoga Benefits In Hindi: योग भारत के प्राचीन संस्कृति का गौरव हिस्सा है जिसकी वजह से भारत पुरे विश्व गुरु बन रहा है योगा करने के फायदे यानी शरीर मन और आत्मा को एक सूत्र में जोड़ना पतंजलि योग दर्शन में योग के बारे में कहा गया है योग के चमत्कारी फायदे (Yoga benefits in hindi) के बारे में योग का प्रयोग शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक लाभ के लिए हमेशा से होता आ रहा है। आज हम आपको योगा के फायदे बता रहे हैं योगा से होने वाले विशेष लाभ के बारे में वैसे तो कई तरह के योगा के लाभ होते हैं लेकिन जो 10 बड़े लाभ हैं आइए जानते हैं। लोग कहते हैं की हम योग क्यों करें लोगोने योग को धर्म से जोड़कर बिबादित कर दिया हैं जबकि सच यह हैं की यह एक व्यायाम है जिसे हर किसी को करना चाहिए।

योगा के फायदे- Yoga In Hindi

योग से शरीर के बजन कम होता हैं होता है शरीर स्वस्थ रहता है इसके अतिरिक्त नियमित रूप से योग योगाभास इतनी समझ देता है कि हमें किस प्रकार का भोजन कब करना चाहिए और क्या नहीं।योग से ना सिर्फ शारीरिक का विकास होता है बलकी सुंदरता चमकती त्वचा शांतिपूर्ण अच्छे विचार को भी योग देता है। योग से जीवन यात्रा शांति अधिक ऊर्जा से भर जाती है।तो आइए जानते हैं योग के फायदे के बारे में।

दूसरों लाभ की बात करें तो योग से चिंता से राहत मिलती है दिन भर में कुछ मिनट का योग दिनभर की चिंताओं से मुक्ति दिलाता है योगासन प्राणायाम और ध्यान तनाव दूर करने का एक अचूक उपाय है शरीर को तनाव और हानिकारक पदार्थों से मुक्त भी करता हैं।

योगासन के प्रकार- Yoga asanas in Hindi

विभिन्न प्रकार के योगासन होते हैं उनमेसे यह सबसे ज्यादा किये जाने वाले योगा हैं वृक्षासन, पश्चिम नमस्कार, वसिष्ठासन, कोनासन (Konasana Benefits In Hindi), सर्वांगासन, गरुड़ासन, कटिचक्रासन, मकर अधो मुख श्वानासन, हस्तपादासन, अर्ध चक्रासन, त्रिकोणासन, वीरभद्रासन, पसारिता पादोत्तनासन, कुर्सी आसन, उत्कटासन, पद्मासना, जानु शीर्षासन, चक्की मंथन आसन, पश्चिमोत्तासन, पूर्वत्तनासन, अधो मुख श्वानासन, भुजंगासन, अर्ध मत्स्येन्द्रासन, उष्ट्रासनम,  भुजंगासन, तितली आसन, बद्धकोणासन, कमल आसन, एक पाद राज कपोटासन, मार्जरी आसान, उष्ट्रासनम, शिशु आसन, चक्की मंथन आसन, चक्की चलानासन, धनुरासन, भुजंगासन, सलम्बा भुजंगासन, विपरीत शलभासन, शलभासन, नौकासन, सेतु बंधासन, मत्स्यासन, पवनमुक्तासन, सर्वांगासन, हलासन, नटराजासन, विष्णुआसन, शवासन।

योग का लाभ- Benefits of Yoga In Hindi

अगर हम तीसरे फायदे की बात करे तो योग से अंतरमन को शांति मिलती हैं आपके चिंता से भरे मन को शांत करने का सबसे आसान और सहज उपाय हैं साथ ही शरीर में प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है। आजकल हर इंसान रोग से सिर्फ इसलिए हार जाता है क्योंकि उसकी प्रतिरोधक क्षमता करजोर हो जाती हैं लेकिन योग करने से मदद मिलती है। हम संयुक्त रूप से शरीर मन और आत्मा से बने हैं शरीर में कोई अनियमितता मन को प्रभावित करती है मन में निराशा और थकान शरीर में रोग का कारण है योगासन शरीर के अंगो को सामान्य स्तिथि में रखता हैं और मांसपेशी को शक्ति देते हैं।

प्राणायाम और ध्यान तनाव को दूर करते हैं और प्रतिरोधक लक्षण को सुधरता हैं। योग हमें सजगता से जिंदगी जीना सिखाता है। साधारण रूप में मन की स्थिति में सजगता हमें तनाव से मुक्त करती है मन को शांति प्रदान कर कार्य क्षमता बढ़ाती है। योग तथा प्राणयाम मन को बर्तमान समय में लाते हैं हम अपनी लक्ष की ओर केंद्रित होते हैं।

योगा क्या है- Yoga meaning in Hindi

छठा फायदे की बात करें तो योग से संबंधों में सुधार होता है यह एक साइंस हैं यह इस तरह से काम करता है कि आपको भी नहीं पता चलता। जिंदगी में छोटी छोटी चीजे मायने रखती हैं योग द्वारा आपके अपने आत्मीय जनों से संबंध सुधर जा आते हैं। योग और ध्यान मन को प्रसन्नता और शांति देते हैं आत्मीय जनों से सुंदर संबंध बनाने की क्षमता प्रदान करते हैं और ऊर्जा प्रदान करता है। अक्सर हम कई बार दिन में थका थका सा महसूस करने लगते हैं हमारा किसी भी काम में मन नहीं लगता प्रत्येक दिन कुछ मिनिट का योग आपको पूरे दिन की ताजगी और ऊर्जा से भरा रखता है।

10 मिनट का ध्यान आपको कितनी भी व्यस्त दिन में ताजगी और ऊर्जा से भर देता है। योग शरीर को लचीलापन देता है जिससे कई समस्याएं  दूर हो जाती हैं। आपको केवल अपने नियमित दिनचर्या में योग को शामिल करना है जिससे आप सशक्तता, कोमलता और लचीलेपन से भरे रहे। नियमित यगाभास आपके मांसपेशियों को सशक्त बनाता है यह शरीर के बैठने और खरे होने के कई स्तिथि में सुधार लाता हैं योग से अंतर्ज्ञान की प्राप्ति होती है योग तथा ध्यान आपके अंतर्ज्ञान की शक्ति को सुधरता है जिससे आप यह पता चलता है कि क्या कब कैसे करना है जिससे आप को सकारात्मक परिणाम मिले। योग का लगातार अभ्यास करे आप जितना ज्यादा अभ्यास करते हैं उतनाही ज्यादा आपको लाभ मिलता हैं।

नोट:-healthayurindia.com के इस आर्टिकल केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए लिखा गया है। कृपया इसके उपयोग से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular