Home आयुर्वेदिक Triphala Churna Benefits In Hindi | एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का फायदा

Triphala Churna Benefits In Hindi | एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का फायदा

आयुर्वेदिक चिकित्सा का इतिहास 5,000 सालो से भी पुराना हैं प्राचीन काल से ही गंभीर से गंभीर चिकित्स्य में आयुर्वेद जड़ीबूटियों का इस्तेमाल होता आ रहा हैं। इन्हीं आयुर्वेदिक दबाइयो में से एक त्रिफला चूर्ण (Triphala Churna) है। आयुर्वेदिक दबाइयो में त्रिफला को एक खास स्थान दिया गया हैं तो अगर आप भी आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करते हैं आपको भी त्रिफला के बारे में पता होगा। लेकिन आज हम त्रिफला के कुछ बेहतरीन फायदे के बारे में बताएँगे।

त्रिफला के फायदे- Triphala Churna

सबसे पहले जानिए त्रिफला (Triphala) क्या हैं और कैसे बनते हैं! त्रिफला नाम का अर्थ “तीन फल” मतलब इसे तीन तरह के फलो के मिश्रण से बनाया जाता हैं, त्रिफला एक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी का मिश्रण है जिसे आंवला, विभीतकी और हरीतकी से तैयार किया जाता है। त्रिफला शरीर को शक्ति प्रदान करने और स्वस्थ बनाए रखने में बहुत सहायक होता हैं। ये बीमारियों से भी बचाव करता है, साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं। जायफल के फायदे, उपयोग और नुकसान – NUTMEG IN HINDI

त्रिफला के फायदे- Triphala Churna

वजन कम करने के लिए त्रिफला के फायदे – Benefits Of Triphala Churna for Weight Loss in Hindi

त्रिफला वजन कम करने में बहुत फायदेमंद है। अगर आप मुश्किल डाइट या एक्सरसाइज किए बिना ही अपना वजन घटाना चाहते है तो आपके लिए त्रिफला एक बहुत अच्छा विकल्प है।

हाई ब्लड प्रेशर में राहत

त्रिफला का नियमित सेवन करने से डायबेटीस, हाई ब्लड प्रेसर रोगो में आराम मिलता है। अगर आप भी डायबेटीस, हाई ब्लड प्रेसर के बढ़ते लेवल से परेशान हैं तो 3-4 gm. त्रिफला चूर्ण का सेवन रोज रात को सोने से पहले करे इससे आपको राहत मिलेगी।

कब्ज से राहत- Triphala For Constipation

त्रिफला चूर्ण के फायदे सबसे बड़ा यह हैं की त्रिफला चूर्ण कब्ज के परेशानी को कम करता हैं। आजकल के आनहेल्थी खान-पान और भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग कब्ज जैसी समस्या का शिकार हो जाते हैं, ऐसे लोगों को त्रिफला का सेवन नियमित गुनगुने पानी के साथ करना चाहिए। SAFED MUSLI: सफेद मूसली के फायदे, गुण व नुकसान जरूर जाने

त्रिफला और शहद के फायदे आँखों की समस्या में- Triphala For Eyes

आखों की जलन, मोतियाबिंद और आँखों की रोशनी (Triphala Eye Drops) को तेज बरक़रार रखने के लिए 10 ग्राम शुद्ध देशी गाय के घी में 5 ग्राम शहद और एक चम्मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर सेवन करें इससे फ़ायदा मिलेगा।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

रोजाना त्रिफला चूर्ण (Triphala Churna) का सेवन शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देता है। अगर आपका शरीर बहुत कमजोर है तो त्रिफला चूर्ण का प्रयोग कर आप अपने शरीर का कमजोरी दूर कर सकते हैं। शतावरी के फायदे जानते हैं आप? क्‍या है इसका हेल्‍थ बेनिफिट्स

मोटापे से राहत

अगर आप भी मोटापे की समस्या से परेशान हैं तो त्रिफला का सेवन आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता हैं। त्रिफला के गुनगुने काढ़े (Triphala Juice) में थोड़ा सा सहद शहद मिलाकर पि लें इससे मोटापा काम हो जायेगा। इसके अलावा त्रिफला चूर्ण को पानी में अच्छे से उबालकर, शहद मिलाकर पीने से यह शरीर की चर्बी को भी कम कर देता है।

सिर दर्द में गुणकारी

नीम के अंदर की छाल, हल्दी, त्रिफला, चिरायता और गिलोय को मिला कर एक मिश्रण बना ले अब उस मिश्रण को आधा लीटर पानी में उबाले, ध्यान रहे इसे 250 gm. रहने तक उबलते रहें। फिर इस काढ़ा को छानकर कुछ दिन तक सुबह और शाम के समय गुड़ के साथ सेवन करने से सिर दर्द कि समस्या दूर होती है।

त्रिफला के अन्य फायदे – Other Benefits of Triphala in Hindi

  • त्रिफला शरीर में बलगम और गैस की समस्या को कम करता है। यह अल्सर को ठीक करने में भी मदतगार हैं।
  • रात को सोने से पहले आधा चम्मच त्रिफला लें। यह शरीर के स्ट्रांग इम्युनिटी को बनाये रखता हैं।
  • अगर आपके शरीर पर पुराना कोई घाब (Triphala Churna For Skin Problem) हैं तो त्रिफला के काढ़ा बनाकर घाव धोने से घाव जल्दी भर जाता है।
  • यह खून में मौजूद ख़राब कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदत करता है।
  • डायबिटीज में त्रिफला के फायदे: डायबिटीज और हृदय रोगी के लिए भी सहायक हैं।
  • UTI यानि पेशाब के इन्फेक्शन में त्रिफला को घी, शहद, गर्म पानी के साथ लेने से रोगीको आराम मिलता हैं।
  • त्रिफला चूर्ण 5-5 ग्राम के इस्तेमाल से खुजली,खाज, दाद रोग में लाभ देता हैं।

त्रिफला लेने के नियम – Triphala Lene ka Tarika in Hindi

सुबह का समय इसका सेवन शरीर को पोषण देता है यह शरीर में आयरन, कैल्सियम, विटामिन की कमी को दूर करता है। आप सुबह गुड़ के साथ इसका सेवन कर सकते हैं।

रात को त्रिफला लेने से पेट की सभी समस्या दूर हो जाती है। गर्म दूध के साथ रात को आप इसे ले सकते हैं। आप इसे पानी में रात भर भिगोकर या पानी के साथ मिलाकर और सुबह छानकर इसका काढ़ा बनाकार पि सकते है।

त्रिफला चूर्ण के नुकसान- Triphala Side Effects in Hindi

  • त्रिफला का जितना फ़ायदा हैं साथ ही त्रिफला चूर्ण के नुकसान भी हैं इस्तेमाल से पहले इन बातोंका जरूर ध्यान रखे-
  • प्रेगनेंसी और स्तनपान के दौरान महिलाये इसका इस्तेमाल न करें।
  • कुछ लोगों में इसका सेवन ज्यादा नींद लाता है।
  • 6 साल से निचे छोटे बच्चों को त्रिफला का सेबन न करने दें।
  • इसका ज्यादा मात्रा में सेबन करने से दस्त लग सकते हैं।
  • उपयोग से पहले विशेषज्ञ से परामर्श जरूर ले। विशेषज्ञ के सलाह के बिना इसका उपयोग न करे, इससे फायदे की जगह नुकशान भी हो सकता हैं।

हेल्थ सम्बन्धी जानकारी के लिए हमारे  Telegram Whatsapp  Facebook  Twitter  Instagram  Pinterest  Quora  Reddit  Tumbllr जरूर ज्वाइन करे।

नोट:-healthayurindia.com के इस आर्टिकल केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए लिखा गया है। कृपया इसके उपयोग से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular