Home आयुर्वेदिक Til Ke Fayde: तिल खाने के हैरान कर देने फायदे और नुकशान

Til Ke Fayde: तिल खाने के हैरान कर देने फायदे और नुकशान

Til Ke Fayde: तिल एक तरह का शाकीय पौधा है, जिसका बीज से कई तरह के आयुर्वेदिक दबाई और तेल तैयार किया जाता हैं, यह आकार में बहुत छोटे होते हैं। आमतौर पर तिल कई रंगो में होता हैं लेकिन सफ़ेद और काले रंग के तिल का ही सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता हैं, इसके तेल कई तरह के कॉस्मेटिक्स में प्रयोग किया जाता हैं।

तिल के बीज को दुनिया के सबसे ज्यादा पुराने बीजो में से एक माना जाता हैं। यह न सिर्फ दबाई और कास्मेटिक में इस्तेमाल किया जाता हैं बल्कि इससे कई तारक के घरेलु उपचारो में भी प्रयोग किया जा सकता हैं। तिल में सेसमीन नामक एक खास तरह के एन्टीऑक्सिडेंट पाया जाता है जो कैंसर को रोकने में सक्षम हैं, और तो और ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट कैंसर, पेट के कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर होने से भी रोकता हैं।

तिल खाने के फायदे (Til Ke Fayde)

कुछ लोग तिल को सलाद के रूप में खाना पसंद करते हैं यहाँ तक की पूजा पाट या कहे सभी पारम्परिक ब्यंजनो में भी तिल का प्रयाग किया जाता हैं। तिल के बीजो में जितने फायदे हैं उतनाही तिल के तेल में भी हैं। इसमें मोनो-सैचुरेटेड नामक फैटी एसिड पाए जाते हैं जो शरीर में मौजूद ख़राब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदत करता हैं, दिल से जुड़ी सभी बीमारियों से भी निजात दिलाने में भी तिल काफी फायदेमंद हैं।

यही नहीं तिल का उपयोग कर आप तनाब, सत्वाचा संमंधी समस्या, हड्डियोंकी समस्या इत्यादि ऐसे बहुत सारे समस्या से छुटकारा पा सकते हैं जो हम आगे चलकर जानेगे। हमारे आजके इस लेख में जानिए तिल के फायदे, तिल के तेल के फायदे, तिल का उपयोग और तिल से होने बाले नुकशान के बारे में।

तिल के फायदे (Sesame seeds in hindi)

तिल के बीज में अनेक प्राकृतिक खनिज और तेल मौजूद होता हैं जो शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं। इसमें विटामिन, कैल्सियम, आयरन, कॉपर, जिंक, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, मैंगनीज़, विटामिन B 6, प्रोटीन थायमीन इत्यादि का बहुत अच्छा स्रोत हैं। आइये अब जानते हैं की इसके फायदे के बारे में।

डायबिटीज में तिल के लाभ – Sesame Seeds Benefits in Diebetis

तिल के बीज में मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं यह डायबिटीज को कम करता हैं। यह शरीर में ग्लूकोज और इंसुलिन के स्तर को सामान्य रखता हैं। जिससे डायबिटीज को होने से भी रोका जा सकता हैं।

तिल खाने के फायदे हड्डियों को मजबूत बनाने में (Black sesame seeds in hindi)

तिल के बीज में फॉस्फोरस, जिंक और कैल्सियम खनिज तत्व होता हैं, जो हड्डियों के मजबूती के लिए बेहद जरुरी हैं। यह खनिज पदार्थ हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

सूजन को कम करे तिल के गुण (Til khane ke fayde )

तिल के बीज में कॉपर मौजूद होते हैं यह मांसपेशियों के मजबूती के साथ-साथ मासपेशियो की सूजन को भी कम करता है, यही नहीं यह तत्व खून के बहाब को भी सामान्य रखता हैं। जो की शरीर में रक्तसंचालन को सही रखने में बहुत जरुरी हैं।

पाचन शक्ति को बढ़ाने में तिल खाने के लाभ

तिल के बीज में काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता हैं। यह फाइबर पेट में पाचन क्रिया को मजबूत और सहज करने के लिए बहुत जरुरी होता है। फाइबर काफी मात्रा में पाए जाने के बजह से यह कब्ज जैसी परेशानी से भी निपट ने में सक्षम हैं।

तिल के औषधीय गुण करें कैंसर से बचाव में (Til benefits in hindi)

तिल के बीज में जरुरी खनिज, बिटमिंस और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। यह पोषक तत्व कैंसर होने के खतरे को टालता हैं। इसके अलाबा तिल के बीज दिल की बीमारियों, समय से पहले बुढ़ाप आ जाना समस्याओं को कम करने के बहुत कारगर साबित होता हैं।

तिल के बीज के लाभ (Sesame Seeds Benefits In Hindi)

काले तिल के बीज में भरपूर आयरन की मात्रा होते हैं, साथ ही इसमें सेसमोल नामक एक योगिक पदार्थ मौजूद होता हैं। एनीमिया से ग्रस्त लोग अगर इसका सेबन करे तो इससे काफी फ़ायदा मिलता हैं। यह योगिक शरीर को बिभिन्न रेडिएशन के प्रभाव से भी बचता हैं।

काले तिल के फायदे (Kale til ke fayde)

काले तिल के फायदे, Kale til ke fayde

रक्तचाप को बियत्रण तथा सामान्य रखने में काले तिल अच्छी भूमिका निभाता हैं। एक शोध में कहा गया है कि हाई ब्लड प्रेसर से पीड़ित लोग अगर नियमित काले तिल (Kale til) का सेबन करे तो अच्छा लाभ मिलता हैं। क्यू की इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव के कारण लोगों के रक्तचाप में काफी सुधार आया हैं।

कैंसर जैसी समस्या को भी रोकने में काले तिल काफी हद तक मदतगार हैं, काले तिल में मौजूद लिगनेन योगिक में एंटी-कैंसर पगुण होता है। यहाँ तक की यह कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकने है। रिसर्च में यह भी पाया गया की काले तिल प्रोस्टेट कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, कोलन कैंसर से भी बचता हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए काले तिल का उपयोग किया जा सकता हैं। इस संबंध में पब्लिश एंड मेडिकल रिसर्च के अनुशार काले तिल में मौजूद कॉपर एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है।

Safed-til-ke-fayde
Safed-til-ke-fayde Image Source: flickr

सफेद तिल के फायदे (Safed til ke fayde)

काले तिल के तरह सफ़ेद तिल (White til) का भी फायदे बेशुमार हैं और लगभग दोनों के ही फायदे समान हैं।

बाल को मजबूत, लम्बे और घने बनाये रखने के लिए नियमित तिल का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है।

शरीर में खून की मात्रा सही बनाए रखने में तिल का सेबन लाभकारी हैं। 

काले तिल की तरह सफ़ेद तिल में भी कुछ ऐसे खनिज तत्व पाए जाते हैं जो तनाब-डिप्रेशन को कम करने में मदत करता हैं।

इस तिल में भी एमिनो एसिड पाया जाता हैं जो हड्डियों के विकास के लिए बहुत जरुरी हैं, और तो और यह मांसपेशियों को भी मजबूती देता हैं के।

तिल के तेल के लाभ (Til ka tel)

विशेषज्ञों के मुताबिक, तिल के तेल में सेरोटोनिन और एमिनो एसिड के गुण पाया जाता है। यह हमारे अंदर अच्छा मूड बनाये रखने में मदत करता हैं।

तिल के तेल (Til oil) के गुण त्वचा के लिए: तिल का तेल ज़िंक भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, जो त्वचा के लिए बहुत जरुरी हैं। यह तेल त्वचा को मुलायम सुन्दर करने में हमारती मदत करता हैं। साथ ही यह जल्द बुढ़ापा आने से भी रोकता हैं। तिल के तेल को आप सनस्क्रीन के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते है।

तिल के तेल की मालिश के फायदे (Til ka tel ke fayde in hindi): आयुर्वेदिक के अनुसार तिल के तेल की मालिश शरीर के लिए बहुत अच्छा होता हैं। इससे त्वचा भी खिल उठता हैं और हड्डिया भी मजबूत होते हैं।

तिल और तिल के तेल के कुछ अन्य फायदे (Sesame other benefits in hindi)

काले तिल (Black til) के फायदे बालों के लिए: प्रदूषण आपके बालों का हाल बेहाल कर देता हैं। इसका नतीजा समय से पहले बालो का ज्यादा झरना, बाल सफ़ेद पड़ जाना, रुसी और गंजापन। प्रदुषण से बालो को बचाने के लिए लोग बहुत से तरीके आजमाते हैं जो कभी कभी कारगर साबित नहीं होता। ऐसे में तिल का तेल आपका बहुत काम आ सकता है। तिल का तेल अगर आप अपने बालो में इस्तेमाल करेंगे तो इन सब समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। या फिर आप जो तेल इस्तेमाल करते हैं उसी तेल में ही तिल का तेल मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

काले तिल के लड्डू के फायदे (Til ke laddu): सर्दियां में कुछ लोग गुड़ के साथ तिल मिलाकर इसका लड्डू बनाकर खाते हैं। लेकिन स्वाद के साथ-साथ इसका बहुत लाभ भी हैं। तिल सफेद हो या काला दोनों ही शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं। क्यू की इसमें सेसमीन नामक ऐंटिऑक्सिडेंट पाया जाता है जो हमारे शरीर के रक्षा प्रणाली को सठिक बनाये रखने में मदत करता हैं।

सोंठ और काले तिल के फायदे: 2 ग्राम काली मिर्च, 2 ग्राम सोंठ, 2 ग्राम पीपल का चूर्ण में 100 मिली तिल के काढ़ा को दिन में तीन बार पिलाने से लड़कियों के उन दिनों के समस्या में लाभ मिलता हैं।

तिल का तेल चेहरे पर लगाने के फायदे: तिल का तेल चेहरे पे लगाने से दाग झुर्रिया नहीं आते साथ ही यह त्वचा के रौनक को बढ़ाने में मदत करता हैं। (पाठक इस बात का जरूर ध्यान रखे की तिल या तिल के तेल का सेबन कैंसर या किसी भी बीमारी का इलाज नहीं हैं। अगर आप कोई भी बीमारी से ग्रस्त हैं तो डॉक्टर से सलह जरूर लीजिये).

तिल के नुकशान (Side effects of sesame seeds in Hindi)

  • ज्यादा मात्रा में तिल के बीज का सेवन कुछ लोगों को एलर्जी भी हो सकता हैं।
  • तिल के अधिक सेवन से आपको दस्त भी लग सकती हैं। थोड़ी मात्रा में ही इसका सेबन करे।
  • तिल के बीज आपकी त्वचा के लिए जितना फायदेमंद हैं उतनाही नुक्शानदायक भी हो सकता हैं। इसका अधिक सेबन से खुजली भी हो सकता हैं।
  • इसके बीज में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होने के कारन इसका ज्यादा प्रयोग आपके वजन को बढ़ा सकता है अगर आपका वजन आप संतुलन रखना चाहते हैं तो इसका कम से कम सेवन करे।
  • कुछ लोग बालों को झरने से रोकने के लिए तिल का तेल का प्रयोग करते हैं लेकिन ज्यादा प्रयोग इसका उल्टा प्रभाब डाल सकता हैं यहाँ तक की आप गंजेपन का शिकार भी हो सकते हैं।
  • महिलाये गर्भावस्था दौरान इसका सेबन ना ही करे तो अच्छा हैं क्यू की इससे गर्भपात भी हो सकता हैं।

नोट:-healthayurindia.com के इस आर्टिकल केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए लिखा गया है। कृपया इसके उपयोग से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular