Home आयुर्वेदिक Shatavari Ke Fayde | शतावरी चूर्ण खाने के फायदे, उपयोग, लाभ और...

Shatavari Ke Fayde | शतावरी चूर्ण खाने के फायदे, उपयोग, लाभ और नुकसान

Shatavari Ke Fayde: शतावरी आयुर्वेद में एक जड़ी-बूटी है इसे आमतौर पर शतावर के नाम से जाना जाता है और अंग्रेजी में एस्पेरेगस (Asparagus) के नाम से भी जाना जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम एस्पेरेगस रेसिमोसस है। लेकिन सतावर का असली नाम सतमूली हैं ऐसा इसलिए हैं की अगर आप इसके जड़ को उखाड़ेंगे तो आपको शो जड़े दिखाई देगी, लेकिन इसके 100 फायदे हैं इसीलिए इसे सतावर कहा जाता हैं। आमतौर पर भारत में इसका इस्तेमाल सदियों में एक दबा के रूप में किया जाता है। खासकर, महिलाओं से संबंधित समस्याओं में इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा क्या जाता हैं।

शतावरी के फायदे (Shatavari Ke Fayde)

आयुर्वेद में सतावर को मध्यरासयन भी कहा जाता हैं यानिकि ेयह एक ब्रेन टॉनिक की तरह काम करता हैं यह मस्तिष्क के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं अगर आप शतावर लेते हैं तो आप चीजों को बेहतर तरीके से सीख पाते हैं बेहतर तरीके से याद रख पाते हैं और बेहतर तरीके से कंसंट्रेट कर पाते हैं। जिन लोगो को बिना किसी वजह के घबराहट रहती है उन्हें जरूर सतावर लेना चाहिए, इसके इस्तेमाल से मूड अच्छा रहता है, खुशी महसूस होती है और घबराहट जैसी परेशानियां दूर रहती ह।

इसे भी पढ़े:DHOKLA RECIPE-घर पर ही बनाइये नरम और स्वादिस्ट ढोकला

शतावरी के प्रकार- Shatavari Plant Types

शतावरी के इस्तेमाल से पहले ये जान लेना जरुरी हैं की सतवारी कितने प्रकार के होते हैं कौन सा प्रकार सबसे ज्यादा फायदेमंद हो है।

बैंगनी शतावरी: यह सबसे अलग तरह की शतावरी होती है और इसका रंग इसलिए बैंगनी होता है, क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं।

सफेद शतावरी: शतावरी का और एक प्रकार हैं और वो हैं सफेद शतावरी। इसका रंग इसलिए सफेद होता है क्योंकि यह मिट्टी के अंदर ही उगाई जाती है। इसे छायादार जगह पर भी उगाया जा सकता हैं, ताकि सूरज की तीखी पौधों को नुकसान न पूछा पाए।

इसे भी पढ़े: अश्वगंधा खाने के फायदे, नुकसान और तरीके जरूर जाने

हरी शतावरी: हरी शतावरी मूल रूप से भारत में उगाया जाता हैं और आयुर्वेद में भी इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता हैं। हरे और सफेद रंग की शतावरी दोनों लगभग एक ही होती हैं। लेकिन, इसके अलग अलग रंग होने के कारन इसे अलग अलग नाम से जाना जाता हैं।

आइए अब जानते हैं, शतावरी के फायदे, शतावरी चूर्ण के लाभ, शतावरी के फायदे पुरुषों के लिए और शतावरी के नुकसान

शतावरी चूर्ण के फायदे आंखों के लिए– Shatavari benefits in hindi

जिन लोगो आँखों की समस्या हैं और साफ दिखाई नहीं देता, दूर की नजर साफ दिखाई नहीं देता यह चश्मे का नंबर बार बार बदल ते हैं, उनके लिए ऑय टॉनिक का काम करता हैं और यह आँखों की सेहत के लिए बहुत फायदेमंद हैं इससे आपका चश्मा तो नहीं उतरेगा पर आपका जो नंबर है वह कांस्टेंट हो जाएगा।

इसे भी पढ़े: AKHROT: अखरोट के फायदे और उपयोग, खाने से दूर होंगे ये रोग

Shatavari-benefits-in-hindi

शतावरी के फायदे हृदय स्वास्थ्य में- Shatavari Ke Fayde

सतावर पटासीयम का एक अच्छा सोर्स हैं और ब्लड प्रेसर को कण्ट्रोल करने में मदत करता हैं इसके अलावा हमारे कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के लिए भी बहुत ही ज्यादा फायदेमंद रहता जिसके बजह से हम हार्ट सम्बंधित सभी बीमारियोसे बचे रहते हैं।

शतावरी चूर्ण के लाभ पाचन शक्ति बढ़ायेShatavari Ke Fayde

शतावरी चूर्ण के फायदे पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए हैं, एक तो शतावर आपका वजन घटाने में बहुत ज्यादा फायदेमंद है। अगर आप जिम जा रहे हैं वर्कआउट कर रहे हैं और आपका वजन घटाने का गोल है तो शतावरी जरूर खाये।

इसे भी पढ़े: किसमिस खाली पेट या भिगोकर खानेके हैरान कर देने बाले फायदे

वजन घटाने के लिए

शतावर बहुत ज्यादा फायदेमंद हो सकती है वजन घटाने में इसमें फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है और कैलोरी तो बिल्कुल होती नहीं है तो अगर आप हरी सतावर इस्तेमाल करेंगे तो यह वजन घटाने में मदद करेगी।

मधुमेह रोगी के लिए

शतावर कहा जाता है कि ये मधुमेह में भी आपको फायदा देती हैं यानी कि शुगर पेशेंट के लिए भी फायदेमंद मानी जाती है। जिसमें ज्यादा फाइबर होता है वह मधुमेह के लिए भी फायदेमंद मानी जाती है, इसमें इसके अलावा काफी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं और आपके ग्लूकोस लेवल को भी यह मेंटेन करने में सतावर के फायदा है।

महिलाओं की प्रेग्नेंसी में Shatavari churna benefits for female in hindi

इसके अलाबा शतावर महिलाओं के लिए भी काफी ज्यादा फायदे हैं जैसे कि अगर आप की प्रजनन क्षमता कम है चाहे वह पुरुष हो चाहे वह महिला हो तो प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए इसमें काफी ज्यादा फाइटोएस्ट्रोजन नामक हार्मोन पाए जाते हैं जो कि महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है। गर्भवती महिलाएं शतावरी, मुलैठी, अजगंधा, सोंठ को बराबर मात्रा में लेकर इसका चूर्ण बना लें और इसके 1-2 ग्राम चूर्ण दूध के साथ पिएं इससे फ़ायदा मिलेगा। इसमें काफी ज्यादा फोलेट पाया जाता हैं जो महिलाओं को गर्वधनराण में होने वाली कमजोरी से बचाता हैं। लेकिन इसके ज्यादा इस्तेमाल भी खतरनाक साबित हो सकता हैं आप ज्यादा से ज्यादा 2 मिलिओग्रम ले सकते हैं और डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

इसे भी पढ़े: एक छोटी सी इलाइची कैसे आपको स्वस्थ रखता हैं

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये– Shatavari Ke Fayde

इसमें विटामिन इ और विटामिन सी काफी मात्रा में पाई जाती हैं और इसमें बहुत मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होने के बजह से यह रोग पप्रतिरोधक समता को बढ़ाता हैं।

माइग्रेन में

अगर आपको माइग्रेन की प्रॉब्लम हैं तो सतभर के फायदे माइग्रेन में भी देखे जा सकते हैं, एक रिसर्च में यह पाया गया है की सतभर में मौजूद राइबोफ्लामनं मीग्रैन की समस्या से निजात देता हैं।

इसके अलाबा अगर महिलाओं में UTI की समस्या हैं तो इससे निजात दिलने मे सतभरी मदत कर सकता हैं।

शतावरी के नुकसान: Shatavari Sides Effects In Hindi

शतावरी वैसे तो फायदे बहुत है, मगर यह कुछ लोगों को नुक्सान भी हो सकती है. कारन इसके अधिक इस्तेमाल से साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं. इसलिए बहुत साबधानी से इसका सेवन करना चाहिए।
इसे स्किन पर सीधे लगा लेने से एलर्जी जैसी की समस्या हो सकती है. इस्तेमाल से पहले आप डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

स्वास्थ सम्बन्धी अपडेट के लिए हमारे TELEGRAM चैनल को ज्वाइन करे

नोट:-healthayurindia.com के इस आर्टिकल केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए लिखा गया है। कृपया इसके उपयोग से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here