Home योगा Konasana Benefits In Hindi | कोणासन कैसे करे? कोणासन के लाभ

Konasana Benefits In Hindi | कोणासन कैसे करे? कोणासन के लाभ

कोणासन 2 शब्दों को जोड़कर बना हैं जिसका मतलब हैं कोण + आसन = कोनासन अर्थात इसे करने से शरीर के आकृति कोण की तरह हो जाती है, और इसीलिए इस आसन को कोणासन (Konasana) कहा जाता हैं। यह आसान हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में हमारी मदत करता हैं, और इसके फायदे जितने हैं सायेद ही किसी आसन में होगा। मूल रूप से कोणासन (Konasana benefits in hindi) तीन तरह के होते हैं बंध कोणासन, सुप्त बुद्धकोणासन और उपविष्ठ कोणासन। इस आसन को नियमित करने से न सिर्फ हम स्वस्थ रह सकते हैं बल्कि हमारे मन और स्मरण शक्ति को भी यह तेज करता हैं। तो आज हम इस आर्टिकल में बताएँगे की कोणासन करने के फायदे किया हैं, कोणासन करने के बिधि और इसे करने का सही तरीका।

कोणासन योग के लाभ (Konasana Benefits In Hindi)

इस योगासन को नियमित करने से रिर की हड्डी मजबूत बनता हैं, जिससे किसी भी ब्यक्ति को बुढ़ापे में झुककर चलने की नौबत नहीं आती।

कोणासन के नियमित अभ्यास से फेफड़े मजबूत बनता है। फेफड़े मानब शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग होता हैं, इसके जरिये ऑक्सीज़न हमारे शरीर में पोछ पाता हैं, इसीलिए शरीर को स्वस्थ रखने के लिए फेफड़े मजबूत होना बहुत जरुरी हैं।

रक्तसंचालन को सामान्य रखता हैं कोणासन, साथ ही इम्यूनिटी सिस्टम यानि रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में हमारी मदत करता हैं।

इस आसन को नियमित करने से हाथ, पैर और शरीर के सभी अंग मजबूत बनते हैं।

साईटीका रोगी के लिए कोणासन बहुत लाभकारी हैं।

कब्ज़ से निजात दिलाता हैं कोणासन। (इसे भी पढ़े:योगा क्या है जानिए योगा करने के फायदे)

कोणासन करने का सही समय (Konasana benefits in hindi)

नियमित सही तरीके से कोणासन को किया जाये तो इसके परिणाम बहुत अच्छे हैं। सूर्यादय के समय और शाम को इस आसन को किया जाये तो सबसे ज्यादा फ़ायदा मिलता हैं। खाली पेट अगर इस आसन को किया जाये तो इसका लाभ अधिक मिलता हैं। कम से कम रोजाना इस आसन को 5-10 बार जरूर करे।

कोनासन करने की विधि

सबसे पहले सीधे खड़े हो जाये अपने पैरों में लगभग ढाई से 3 फीट का फासला कर ले इस दौरान पीठ और पीठ गर्दन सीधे रहेंगे, लंबा सांस भरेंगे और धीरे धीरे साँस को बहार छोड़ेंगे, अपने दांये पंजे को बाहर की और करके लम्बा साँस भरेंगे अब दांये हाथ ऊपर करते हुए दांये घुटने तक मोरेंगे। अब दांये हाथ के हथेलिको दांये पैर से आगे जमीनपर रख देना हैं और बाये हाथ को सीधा बाहर की तरफ ले जायेंगे इस प्रकार उसी स्थिति में शरीर को 15-20 सेकेंड रखना हैं उसके बाद बाये हाथ ऊपर करके पहले की स्थिति में बापस आ जायेंगे इस तरह बाये की और उसी प्रकार करनी हैं जिस तरह अपने दांये और किया।

वीडियो में देखे

कोणासन करते समय इन साबधानी यो को जरूर बरतें

स्पोंडलाइटिस से पीड़ित लोग इस आसन को न करें।

कोणासन हमेसा खाली पेट करना चाहिए।

पीठ दर्द या कमर दर्द हैं ऐसे ब्यक्ति को भी यह आसन नहीं करना चाहिए।

हेल्थ सम्बन्धी जानकारी के लिए हमारा TELEGRAM चैनल ज्वाइन करे

नोट:-healthayurindia.com के इस आर्टिकल केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए लिखा गया है। किसी भी आसन के अभ्यास से पहले कृपया योगा एक्सपर्ट्स से सलाह जरूर ले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here